साहित्यकार हमें सुझाव दें

लखनऊ – समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने आज कवियों एवं शायरों मुलाकात की। उनको यह बखूबी मालूम है कि शायर व कवि किसी भी राजनैतिक परिवर्तन में बड़ा किरदार निभाते हैं। आज दोपहर अखिलेश यादव ने शहर और आसपास के कवियों शायरों को अनौपचारिक रुप से चाय आतंत्रित किया। अखिलेश यादव ने कहा- आप लोग हमें सुझाव दीजिए, जिससे हम और अच्छा कर सकें। देश में खुशहाली नफरत से नहीं लाई जा सकती। खुशहाली के लिए आपसी प्रेम और सद्भाव बहुत आवश्यक है। उन्होंने यह भी कहा कि भारत की संस्कृति सभी धर्मों का आपसी सामंजस्य है।

सपा अध्यक्ष ने अपने छोटे से सम्बोधन में न ही शाहिन बाग का जिक्र किया और न ही सी.ए.ए पर कुछ कहा। सपा मुखिया ने यह भी कहा- जब विकसित देश विश्व में पर्यावरण संतुलन पर और वैज्ञानिक खोजों पर चर्चा करते हैं। तब हम भारत के लोग छोटे- छोटे मुद्दों में उलझ रहे होते हैं। इस अनौपचारिक मुलाकात में वरिष्ठ कवि डा. उदय प्रताप सिंह, वरिष्ठ नेता दीपक रंजन , डा. वसीम बरेलवी, चरन सिंह बशर सहित तीन दर्जन से अधिक शायर एवं कवि उपस्थित हुए।

रिपोर्ट – सर्वेश अस्थाना

Facebook
Twitter
YouTube
LinkedIn