बिजली विभाग का नया कारनामा, बिना कनेक्शन के ही आ गया बिजली बिल

धनघटा तहसील, संतकबीरनगर – धनघटा थाना क्षेत्र के पौली ग्राम पंचायत में बिजली विभाग का ऐसा कारनामा प्रकाश में आ रहा है। जिसमें उसने गृहस्वामी को बताए बिना ही कनेक्शन दे दिया, वह भी एक नहीं तीन-तीन कनेक्शन। ऐसे में परेशान गृहस्वामी एक का भुगतान करने के बाद अपने नाम से कनेक्शन कटवाने के लिए दर-दर की ठोकरें खा रहा है। लेकिन उसे सफलता नहीं मिल पा रही है। आलम यह है कि अन्य कनेक्शन पर बिजली का बिल इतना बेतहाशा बढ़ता चला जा रहा है कि वह सोच नहीं पा रहा है कि कैसे इसका भुगतान करेगा।

पौली निवासी हीरालाल पुत्र सन्तू के ऊपर सटीक बैठ रही है। गुरुवार को पौली ब्लाक मुख्यालय पर पहुंचे हीरालाल ने बताया कि उसने 2012 में विद्युत कनेक्शन लिया था। वर्ष 2018 मे विभाग ने घर पर मीटर भी लगा दिया। पिछले अप्रैल माह मे जब हीरालाल के नाम विद्युत का बिल आया तो वह आश्चर्यचकित हो गया। एक साथ तीन विद्युत कनेक्शन का बिल देख हीरालाल घबरा गया। जिसमें दर्ज लम्बी रकम को अदा करने मे हीरालाल असमर्थ था। 1998 में ही हो गया था पहला कनेक्शन ।

हीरालाल ने जब विभाग से जानकारी मांगी तो मालूम हुआ कि उसके नाम से 1998 में पहला विद्युत कनेक्शन हुआ था। उसने बताया कि जब उसके द्वारा विद्युत कनेक्शन का आवेदन ही नहीं किया गया तो कैसे विद्युत कनेक्शन दिया गया। जब कि मकान मे बिजली का उपभोग ही नही हो रहा था। गृहस्वामी ने 2012 में किया था, बिजली के लिए आवेदन ।

मकान में कनेक्शन के लिए हीरालाल ने 2012 में आवेदन किया था। विद्युत कनेक्शन लेने के बाद विद्युत का उपभोग किया जाने लगा। चार वर्ष बाद 2016 मे हीरालाल के नाम तीसरा विद्युत कनेक्शन हो गया। तीन विद्युत कनेक्शन का बिल जब एक साथ हीरालाल के घर पहुंचा तो वह दंग रहा गया। हीरालाल द्वारा विभाग के अधिशासी अभियन्ता के पास इसकी शिकायत की गई थी। हीरालाल ने शिकायती पत्र में बताया कि एक ही व्यक्ति के नाम तीन कनेक्शन का बोझ लाद दिया गया। हीरालाल ने बताया कि विभाग के दबाव मे आकर 25 हजार रुपये समझौता स्कीम के तहत भरना भी पड़ा। अब जब दो विद्युत कनेक्शन काटने की मांग की जा रही है तो विभाग हीलाहवाली कर रहा है। जब कि दिनोदिन विद्युत कनेक्शन का बिल बढ़ता जा रहा है। पीड़ित ने विभाग से शीघ्र विद्युत कनेक्शन काटने की मांग की है।

रिपोर्ट- पूनम पांडेय 

Facebook
Twitter
YouTube
LinkedIn