CM योगी ने दिए निर्देश, किसानों को ना होने पाए असुविधा

लखनऊ. उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने रविवार को निर्देश दिया कि फसल कटाई के काम में लगे किसानों को आवागमन में किसी तरह की असुविधा नहीं होनी चाहिए। अपर मुख्य सचिव (गृह एवं सूचना) अवनीश कुमार अवस्थी ने यहां संवाददाताओं से कहा, ”कृषि क्षेत्र में फसल कटाई का काम चल रहा है। मुख्यमंत्री ने कृषि विभाग को निर्देश दिया है कि किसानों को फसल कटाई के दौरान आवागमन में कोई असुविधा ना हो।”

अवस्थी ने बताया कि मुख्यमंत्री ने फसलों के क्रय के लिए मंडी की व्यवस्था को और सुचारू रखने के लिए कहा है। साथ ही निर्देश दिया है कि किसानों को न्यूनतम समर्थन मूल्य अवश्य मिले। उन्होंने बताया कि फसल की लगभग 30 से 40 प्रतशित कटाई पूरी हो चुकी है। कृषि विभाग जिलाधिकरियों के माध्यम से किसानों की फसल कटाई के काम में पूरी मदद कर रहा है ताकि किसानों को अपनी उपज मंडियों में लाने में कोई दिक्कत ना हो।

अवस्थी ने बताया कि मुख्यमंत्री ने उच्च शिक्षा, प्राविधिक शिक्षा और चिकित्सा शिक्षा सहित शिक्षा विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों को निर्देश दिया है कि उच्च, प्राविधिक, चिकित्सा एवं व्यावसायिक शिक्षा में ऑनलाइन पढ़ाई की व्यवस्था की जाए ताकि शिक्षा पर असर ना पडे़। इस संबंध में सभी विश्वविद्यालयों को निर्देशित कर दिया गया है।

उन्होंने कहा कि लॉकडाउन की अवधि में उच्च शिक्षा के विद्यार्थियों को कोई नुकसान ना हो, इस पर ध्यान दिया जा रहा है। विद्यार्थियों की ऑनलाइन काउंसिलिंग भी की जा रही है। अवस्थी ने बताया कि मुख्यमंत्री ने निर्देश दिया है कि सरकारी अधिकारी, छात्र और शिक्षक आरोग्य सेतु ऐप का अधिक से अधिक उपयोग करें। यह ऐप संक्रमण से बचने और स्वयं को बचाने के लिए है। उन्होंने बताया कि कालाबाजारी और मुनाफाखोरी रोकने के निर्देश दिये गये हैं। विशेष रूप से ग्रामीण इलाकों में कार्रवाई की गयी है। अवस्थी ने बताया कि अवैध शराब की शिकायत आयी है। अवैध शराब के खिलाफ तीन दिन का अभियान चलाने का निर्देश दिया गया है।

उन्होंने बताया कि लॉकडाउन उल्लंघन करने पर अबतक 15,378 प्राथमिकी 48,503 लोगों के खिलाफ दर्ज की गयी है। लोगों को मुचलके पर छोड़ भी रहे हैं। छह करोड रुपये से अधिक जुर्माना जमा किया गया है। अपर मुख्य सचिव ने बताया कि कालाबाजारी और जमाखोरी के मामले में 385 प्राथमिकी 484 लोगों के खिलाफ दर्ज की गयी है। उन्होंने कहा , ‘‘उत्तर प्रदेश का ‘‘हॉटस्पॉट मॉडल’’ अनुकरणीय है। कोरोना वायरस से सबसे अधिक संक्रमित स्थान के रूप में चिह्नित इलाके को सील करने के फैसले को मजबूती एवं सख्ती से लागू करने के निर्देश दिये गये हैं। साथ ही यह भी कहा गया है कि किसी को कोई कठिनाई ना हो।’’

Facebook
Twitter
YouTube
LinkedIn