ताजिया जुलूस को लेकर भिड़े दो पक्ष, आधा दर्जन से अधिक घायल

मीरजापुर – हुसैन की याद में मातम मानाने का चलन अब एक नया मोड़ ले लिया है। लोग इस मातम के मौके पर अपनी कुत्सित विचारों को प्रगट कर रहे हैं। भारत में अब ताजिया का चलन जोरो पर हो गया है, ताजिया के इस मौके पर लोग सड़कों को खूनी रंग में रंग दे रहे हैं। ताजिया को लेकर चील्ह क्षेत्र के मझिगवां में ताजिया ले जाते समय आपसी रंजिश के चलते तलवार से किए गये हमले में आधा दर्जन लोग घायल हो गए । ताजिया को कंधा लगाएं दो लोगों को गंभीर रूप से घायल कर दिया गया। घायलों को जिला अस्पताल लाया गया, जहां प्राथमिक उपचार के बाद घायलों में एक ही स्थिति नाजुक बताई जा रही है।

पन्ना खान व महमूद खान तथा दूसरे पक्ष से मोहम्मद आजाद उर्फ राजू, अब्दुल हमीद, सरफराज तथा अजरूद्दीन को ज्यादा छोटे आने के कारण चिकित्सकों ने मंडलीय अस्पताल इलाज हेतु रेफर कर दिया है। इस मौके पर पुलिस दल के साथ पुलिस अधीक्षक नगर व नगर मजिस्ट्रेट उपस्थित रहे। गांव वालों ने बताया कि लगभग चार बजे पुलिस अभिरक्षा में छह ताजिया एक साथ मझिगवा गांव से ढोल ताशे के साथ चला। अधिसंख्य लोगों के हाथों में तलवार, धारदार हथियार तथा लाठियां थी। ज्यों ही लखनपुर गांव के पास पहुंचे कि दोनों पक्ष ताजिया को आगे पीछे को लेकर वाद-विवाद शुरू हो गया और देखते ही देखते दोनों पक्षों में तलवार चलने लगी। जिसमें दर्जनों लोग घायल हो गए।

रिपोर्ट – नितिन कुमार अवस्थी

 

Facebook
Twitter
YouTube
LinkedIn