मौलाना साद की बढ़ेंगी मुश्किलें

 दिल्ली- दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच ने निजामुद्दीन मरकज मामले में जांच शुरू कर दी है। दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच ने निजामुद्दीन मरकज मामले में मौलाना साद कांधलवी को 26 सवालों का नोटिस भेजकर तबलीगी जमात से जुड़ी पूरी जानकारी मांगी है। लॉकडाउन के बावजूद मरकज में लोगों की भीड़ इक्कठा होने पर एफआईआर दर्ज कर मौलाना साद से मरकज से जुड़ी 26 जानकारियां क्राइम ब्रांच ने मांगी हैं। दिल्ली पुलिस की अपराध शाखा ने साद और अन्य आरोपियों को पत्र लिखा और दंड प्रक्रिया संहिता की धारा 91 के तहत विवरण मांगा है। अधिकारियों ने संगठन को परिसर में एक धार्मिक सभा आयोजित करने के लिए पुलिस या किसी अन्य अधिकारियों से मांगी गई अनुमति की एक प्रति पेश करने के लिए भी कहा है।

लॉकडाउन के दौरान तबलीगी जमात में शामिल विदेशी नागरिकों का भी ब्यौरा मांगा गया है। दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच ने बैंक अकाउंट समेत संगठन के पता और रजिस्ट्रेशन की जानकारी मांगी गई है। सीसीटीवी फुटेज की भी जानकारी मांगी गई है। गौरलतब है कि 28 मार्च से मौलाना साद गायब हैं। नोटिस में संगठन का पूरा पता और रजिस्ट्रेशन से जुड़ी जानकारियां मांगी गई है। संगठन से जुड़े कर्मचारियों की पूरी डिटेल मांगी गई है। मरकज के मैनेजमेंट से जुड़े लोगों की डिटेल मांगी है। मरकज की पिछले 3 साल की इनकम टैक्स डिटेल भी क्राइम ब्रांच ने मौलाना साद से इस नोटिस के जरिए मांगी है।

क्राइम ब्रांच ने पैन नंबर, बैंक अकाउंट और एक साल की बैंक स्टेटमेंट की डिटेल मांगी है। 1 जनवरी, 2019 से अब तक मरकज में हुई सभी धार्मिक आयोजन की जानकारी मांगी गई है। अंदर लगे सीसीटीवी के बारे में भी जानकारी मांगी गई है, अगर अंदर कैमरे हैं तो कितने कैमरे और कहां-कहां लगे हैं उनकी जानकारी मांगी गई है। धार्मिक आयोजनों से जुड़ी कोई इजाजत कभी मांगी गई या दी गई उनसे संबंधित कागजात मांगे गए हैं। इस नोटिस में मरकज के फॉलोअर्स की भी पूरी डिटेल मांगी गई है, जिसमें विदेशियों के बारे में भी पूछा गया है। 12 मार्च के बाद मरकज में शामिल सभी लोगों की पूरी डिटेल क्राइम ब्रांच को चाहिए। 12 मार्च के बाद मरकज में कौन-कौन गए और ऐसे कौन लोग थे जो बीमार थे या जिनको हॉस्पिटल ले जाया गया उनकी पूरी डिटेल मांगी गई है। मरकज में होने वाले भाषणों और आयोजनों की वीडियो और ऑडियो क्लिप भी मांगी गई है। साथ ही 12 मार्च के बाद मरकज में शामिल किन-किन लोगों को दूसरी मस्जिदों और गेस्ट हाउस में पहुंचाया गया उनकी डिटेल भी मांगी गई है।

बता दें कि मार्च के शुरूआती दिनों में दिल्ली के मरकज निजामुद्दीन में तबलीगी जमात के धार्मिक कार्यक्रम में कई देशों के नागरिक समेत करीब 9,000 लोगों के शिरकत करने की जानकारी अब सामने आते ही हड़कंप मच गया है। कार्यक्रम में शामिल 21 लोग कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं, जबकि दो की मौत हो चुकी है। मामले के तूल पकड़ते ही जमात के प्रमुख 56 वर्षीय मौलाना साद कंधालवी 28 मार्च से गायब हो गए हैं। दिल्ली पुलिस ने उनके खिलाफ केस दर्ज किया गया है। कई राज्यों में उनकी तलाश की जा रही है। इस बीच बुधवार को सामने आई दो में से एक ऑडियो क्लिप में कथित तौर पर मौलाना कह रहे हैं कि वह दिल्ली में एक डॉक्टर की सलाह पर खुद आइसोलेशन में रह रहे हैं।

Facebook
Twitter
YouTube
LinkedIn