अकेलेपन से परेशान लोग बन रहे हैं ‘Dating APP’ की लत के शिकार

संतकबीर नगर  –  आज अकेलापन समाज की एक गंभीर मनोवैज्ञानिक समस्या बन गयी है । पुराने जमाने में संयुक्त परिवार होते थे । व्यक्ति दादा-दादी, चाचा-चाची, ताऊ-ताई, चचेरे भाई-बहन आदि सभी के साथ मिलजुल कर प्रेमभाव से रहता था । अकेलेपन नाम की चिड़िया के बारे में तो कोई जानता तक नहीं था । लेकिन बढ़ती आधुनिकता, महत्वाकांक्षा व व्यक्तिगत आजादी की चाह के कारण एकल परिवारों की संख्या बढ़ी है । एकल परिवारों की संख्या बढ़ने के साथ रिश्तों में दूरियां और औपचारिकताएं भी बढ़ी हैं । आजकल के बच्चे मौसी, बुआ, चाचा, मामा, ताऊ आदि रिश्तों को या तो भूल चुके हैं, या उनसे दूर हो गए हैं ।

विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार, 2020 तक खास तौर पर अकेलेपन से उपजने वाला अवसाद दुनिया की सबसे गंभीर बीमारी होगी । कुछ निवेश सलाहकार तो मानते हैं कि बड़ा मुनाफा कमाने के लिए आने वाले समय में वृद्धाश्रम एक बहुत ही शानदार व्यापार होगा । वृद्धाश्रम, यानी ऐसे बुजुर्गों की देखरेख का धंधा, जिनके पास पैसा तो होगा लेकिन अपनों का साथ नहीं होगा । आजकल की खबरों में घरों में अकेले बुजुर्ग की मृत्यु की खबरें आती रहती हैं । सिर्फ बुजुर्ग ही नहीं, अकेलापन बच्चों व बड़ों में भी बढ़ रहा है । बच्चों द्वारा असफल होने पर आत्महत्या कर लेना या अवसाद ग्रस्त हो जाना, ये सब अकेलेपन के परिणाम है । बढ़ते एकल परिवार, अभिभावकों का बच्चों को समय न दे पाना, बढ़ती प्रतिस्पर्धा आदि अवसाद की वजह बने हैं । मनोवैज्ञानिकों के अनुसार अभिभावकों के पास बच्चों की बात, शिकायतें या परेशानियां सुनने का वक्त नहीं है । बढ़ते तनाव और अति व्यस्तता के कारण बड़ों में भी अवसाद बढ़ा है ।

डेटिंग एप से दिनभर चिपके रहने वाले लोग अकेलेपन और चिंता के शिकार रहते हैं। यही नहीं, ऐसे लोगों में नकारात्मकता के लक्षण भी देखने को मिलते हैं। ओहयो स्टेट यूनिवर्सिटी की कैथरीन कोडक्टो के मुताबिक डेटिंग एप इस्तेमाल करने वाले फोन का बहुत ही ज्यादा इस्तेमाल कर रहे हैं।

इंटरनेट व ऑनलाइन गेम की लत मानसिक बीमारी का कारण बन रही है। खासतौर पर छात्रों में यह समस्या अधिक देखी जा रही है। इसके मद्देनजर एम्स के बिहेवियरल एडिक्शन क्लीनिक (बीएसी) ने विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के साथ मिलकर एक डिजिटल पोर्टल तैयार किया है जिसे बिहेवियर नाम दिया गया है। एम्स के डॉक्टर कहते हैं कि यह पोर्टल लोगों को इंटरनेट के अत्यधिक इस्तेमाल के कारण होने वाली मानसिक बीमारियों के प्रति जागरूक करने में मददगार होगा।

नोट – यह ब्लॉग हमारे संवादाता गंगेश्वर यादव ने लिखा है। ग्राम्य संदेश के लिए आप भी अपना ब्लॉग लिख सकते हैं। अपनी लिखी हुई ब्लॉग को आप हमारे मेल gramyasandesh@gmail.com पर भेज सकते हैं।

Facebook
Twitter
YouTube
LinkedIn