अकेलापन लोगों को ले जा रहा है अवसाद में

आज अकेलापन समाज की एक गंभीर मनोवैज्ञानिक समस्या बन गयी है । पुराने जमाने में संयुक्त परिवार होते थे । व्यक्ति दादा-दादी, चाचा-चाची, ताऊ-ताई, चचेरे भाई-बहन आदि सभी के साथ मिलजुल कर प्रेमभाव से रहता था । अकेलेपन नाम की चिड़िया के बारे में तो कोई जानता तक नहीं था । लेकिन बढ़ती आधुनिकता, महत्वाकांक्षा व व्यक्तिगत आजादी की चाह के कारण एकल परिवारों की संख्या बढ़ी है । एकल परिवारों की संख्या बढ़ने के साथ रिश्तों में दूरियां और औपचारिकताएं भी बढ़ी हैं । आजकल के बच्चे मौसी, बुआ, चाचा, मामा, ताऊ आदि रिश्तों को या तो भूल चुके हैं, या उनसे दूर हो गए हैं ।

विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार, 2020 तक खास तौर पर अकेलेपन से उपजने वाला अवसाद दुनिया की सबसे गंभीर बीमारी होगी । कुछ निवेश सलाहकार तो मानते हैं कि बड़ा मुनाफा कमाने के लिए आने वाले समय में वृद्धाश्रम एक बहुत ही शानदार व्यापार होगा । वृद्धाश्रम, यानी ऐसे बुजुर्गों की देखरेख का धंधा, जिनके पास पैसा तो होगा लेकिन अपनों का साथ नहीं होगा । आजकल की खबरों में घरों में अकेले बुजुर्ग की मृत्यु की खबरें आती रहती हैं । सिर्फ बुजुर्ग ही नहीं, अकेलापन बच्चों व बड़ों में भी बढ़ रहा है । बच्चों द्वारा असफल होने पर आत्महत्या कर लेना या अवसाद ग्रस्त हो जाना, ये सब अकेलेपन के परिणाम है । बढ़ते एकल परिवार, अभिभावकों का बच्चों को समय न दे पाना, बढ़ती प्रतिस्पर्धा आदि अवसाद की वजह बने हैं । मनोवैज्ञानिकों के अनुसार अभिभावकों के पास बच्चों की बात, शिकायतें या परेशानियां सुनने का वक्त नहीं है । बढ़ते तनाव और अति व्यस्तता के कारण बड़ों में भी अवसाद बढ़ा है ।

रिपोर्ट
गंगेश्वर यादव

Facebook
Twitter
YouTube
LinkedIn