नवरात्रि के दिनों में करें कुट्टू के आटे का सेवन

कल से मां दुर्गा की आराधना का दिन नवरात्रि की शुरूआत हो रही है। नवरात्रि के दिनों में भक्त मां दुर्गा की उपासना करने के साथ नौ दिन का व्रत भी रहते हैं। ऐसे में जरूरी है शरीर का स्वस्थ रहना। इसके लिए शरीर को पोषक तत्व मिलना आवश्यक है। नवरात्रि के व्रत के दौरान अन्न का सेवन नहीं किया जाता है। ऐसे में भक्त कुट्टू के आटे का सेवन करते हैं क्योंकि इसका आटा फल से बनता है। साथ ही ये पौष्टिक भी होता है। बताते हैं इसके फायदे…

  • कुट्टू का आटा पौष्टिक तत्वों से भरपूर होता है। कुट्टू के आटे में मैग्नीशियम, विटामिन बी, आयरन, कैल्शियम, जिंक, कॉपर इत्यादि की भरपूर मात्रा होती है।
  • कुट्टू के आटे में फाइटोन्यूट्रिएंट रूटीन भी होता है जो ब्लड प्रशर को कम करता है।
  • कुट्टू के आटे में ग्लूटन नहीं होता है इसलिए इसे बांधने के लिए उबले हुए आलू का प्रयोग किया जाता है।
  • कुट्टू के आटे में घुलनशील फायबर होता है जो गॉलब्लैडर में पथरी से बचाता है।
  • कुट्टू के आटे में मौजूद चाईरो-इनोसिटोल की पहचान डायबिटीज रोकने वाले तत्व के रूप में की गई है।
  • कुट्टू के आटे में मिलावट की जा सकती है और इसे विश्वसनीय स्रोत से ही खरीदना चाहिए। पिछले साल का बचा हुआ आटा भी प्रयोग नहीं करना चाहिए, इससे फूड-प्वॉयजनिंग हो सकती है।

ग्राम्य संदेश डेस्क

Facebook
Twitter
YouTube
LinkedIn