बिना अनुमति सोशल मीडिया पर प्रचार किया तो होगी कार्यवाही

श्रावस्ती जिला निर्वाचन अधिकारी व जिला मजिस्ट्रेट दीपक मीणा ने राजनीतिक दलों, घोषित उम्मीदवारों व उनके समर्थकों से अपील की है कि मीडिया प्रमाणन एवं अनुवीक्षण समिति(एमसीएमसी) से बिना अनुमति के सोशल मीडिया पर कोई भी प्रचार न करें। जिला निर्वाचन अधिकारी ने बताया है कि भारत निर्वाचन आयोग द्वारा सोशल मीडिया पर जारी किये जाने वाले राजनीतिक विज्ञापनों को पूर्व प्रमाणन के दायरे में रखा गया है। मीडिया प्रमाणन एंव अनुवीक्षण समिति से अनुमति लिए बिना राजनीतिक दलों, घोषित प्रत्याशियों अथवा उनके समर्थकों द्वारा सोशल मीडिया किसी भी प्रकार का राजनैतिक विज्ञापन का प्रचार नहीं किया जा सकता है।

जिला निर्वाचन अधिकारी ने कहा है कि सोशल मीडिया के माध्यम से किए जाने वाला प्रचार व्यय, सोशल मीडिया एकाउंट को सक्रिय रखने के लिए नियोजित कामदारों की टीम को दिये जाने वाला वेतन और मजदूरियों पर प्रचलनात्मक व्यय आदि को न केवल प्रत्याशी के खर्च में शामिल किया जाएगा बल्कि प्रसारण से पूर्व अनुमति न लेने के जुर्म में सम्बन्धित के विरूद्ध अभियोग भी दर्ज कराया जाएगा। उन्होंने कहा कि यदि कोई एसएमएस आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन करता हुआ प्रकाश में आता है तो सम्बन्धित के खिलाफ वैधानिक कार्यवाही की जाएगी। जिला निर्वाचन अधिकारी ने घोषित प्रत्याशियों के समर्थकों से अपील की है कि वे आयोग के दिशा निर्देशों के अनुरूप आदर्श आचार संहिता का अनुपालन करें।

रिपोर्ट
चंद्र प्रकाश शुक्ला

Facebook
Twitter
YouTube
LinkedIn